• Email Us : gfcoff@gmail.com
  • Call Us : 05842-222383
Welcome to G.F College Website       Ragging is a criminal Offense       Smoking is prohibited in College Campus       Green & Clean College Campus

News Details


ALL YOU WANT TO KNOW News

News Details


  • गांधी फ़ैज़-ए-आम काॅलेज में आज उर्दू विभाग द्वारा ‘राष्ट्रीय उर्दू दिवस’ एवं ‘राष्ट्रीय शिक्षा दिवस’ के अवसर पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया।

    दिनांक: 20 नवंबर 2019
    गांधी फ़ैज़-ए-आम काॅलेज में आज उर्दू विभाग द्वारा ‘राष्ट्रीय उर्दू दिवस’ एवं ‘राष्ट्रीय शिक्षा दिवस’ के अवसर पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
    इस अवसर पर प्राचार्य प्रोफेसर जमील अहमद ने कहा कि अल्लामा इक़बाल और मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की तख़लीक़ात अमन और आलमे-इंसानियत का पैग़ाम देती है। यह अदब की दुनिया के ऐसे सितारे हैं जिनकी ख़िदमात को भुलाया नहीं जा सकता। हिंदोस्तान की तहज़ीब को समझने के लिए अल्लमा इक़बाल और इक़बाल मौलाना अबुल कलाम आज़ाद का साहित्य पढ़ा जाना समय की ज़रूरत है।
    उर्दू के विभागाध्यक्ष और कार्यक्रम-समन्वयक डाॅ0 तजम्मुल हुसैन ने कहा कि उर्दू सिर्फ एक ज़ुबान ही नहीं बल्कि मुकम्मल तहज़ीब है। अल्लामा इक़बाल और मौलाना आज़ाद की भाषा ने हिंदोस्तानी तहज़ीब को संजोने में अहम रोल अदा किया है।
    डाॅ0 जी.ए. कादरी ने अल्लामा इक़बाल का स्मरण करते हुए कहा कि इक़बाल ने अपनी नज़्मों के जरिये हिंदुस्तानियों को बेदार करने और हुब्बुलवतनी का जज़्बा पैदा करने का महत्वपूर्ण कार्य किया।
    डाॅ0 दरख़्शां बी ने अल्लामा इक़बाल के साहित्यिक अवदान पर विश्लेषणात्मक दृष्टि डाली और डाॅ0 रईस अहमद ने मौलाना आज़ाद के राजनीतिक शख्सियत के बारे में बताया।
    कार्यक्रम में विभाग के सदस्यों डाॅ0 कौसर जमाल, डाॅ0 इरम जहाँ, डाॅ0 नसीम अहमद, मसीउल्लाह साजू का विशेष योगदान रहा। कार्यक्रम का आरंभ वकील अहमद द्वारा की गई तिलावते कुरान से हुआ। मुख्य अतिथि प्राचार्य प्रोफेसर जमील अहमद को पुष्पगुच्छ भेट कर उनका स्वागत किया। फिज़ा, उमरा, मुमताज, आफरीन, फलक और समन ने इक़बाल के प्रसिद्ध गीत ‘सारे जहां से अच्छा’ का संुदर प्रस्तुतिकरण किया। अभय कुमार, समन, लाइबा, आदेश कुमार, आरिफ रज़ा, अरबाज़, सफिया, सोनम, सोबान, फरहान, चांदनी, सना, निदा, आमिना, रीना, अब्दुस्सकूर, आसमा, सानिया, रवीना आदि ने भी संगोष्ठी में अपने विचार व्यक्त किए। जितिन, अफ्फान, साहिबा, ज़िया, अरबाज, आफताब आलम, अदिल, मुमताज़ और शादाब रज़ा ने भी उर्दू के महत्व पर विचार व्यक्त किए।
    कार्यक्रम का संचालन डाॅ0 नसीम अहमद ने किया। कार्यक्रम में काॅलेज स्टाॅफ सहित सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।


    भवदीय

    (प्रोफेसर जम़ील अहमद)
    प्राचार्य
    गांधी फ़ैज़-ए-आम काॅलेज, शाहजहाँपुर

     
     

    Posted by GF College / Posted on Nov 19, 2019

120

Awesome Professors

33

Department

15

Courses

10000+

Students

All Rights Reserved © GF College | Designed By Spn Web Developer